बहु-उपयोगी व्यायाम है रस्सी कूदना :

रस्सी कूदना एक बेहतरीन व्यायाम है, जो सिर्फ बच्चों के लिए ही नहीं, बड़ों के लिए भी अच्छा है। इससे तन और मन, दोनों ही प्रफुल्लित होते हैं। मांसपेशियों की ताकत बढ़ती-खिलती है, उनके बीच बेहतर सामंजस्य और संतुलन स्थापित होता है, तंत्रिकीय प्रणाली, फेफड़ों और रक्तसंचार व्यवस्था की कसरत होती है और साथ ही चुस्ती-फुर्ती का विकास होता है। कैलोरी की भी अच्छी-खासी खपत होती है।

इसलिए यदि आप ‘फिटनेस कांशियस’ हैं, तो थोड़ा समय रस्सी कूदने यानी ‘स्किपिंग’ में लगाना शुरू कर सकते हैं। देखने में भले यह आसान लगता हो, पर जब शुरुआत करेंगे तो पाएँगे कि यह किसी कला से कम नहीं। इसके लिए धैर्य और अभ्यास, दोनों ही अनिवार्य हैं। आप धीरे-धीरे ही इसके गुर सीख पाएँगे। इसके लिए यह जरूरी है कि रस्सी आपके कद के मुताबिक हो-न ज्यादा लंबी, न छोटी। नंगे पैर की बजाय गद्देदार जूते पहनें तो ज्यादा ठीक है और यह न सोचे कि एक साथ ही आप इसे लंबे समय तक कर पाएँगे। धीरे-धीरे समय बढ़ाते हुए पंद्रह मिनट इसमें लगाने लगे तो काफी है। आइये जाने रस्सी कूदने के फायदे और नुकसान के बारे में –

रस्सी कूदने के लाभ : Benefits of Rope Skipping

रोप स्किपिंग अनेक लाभ प्रदान करती है जो स्वास्थ्य एवं पुष्टि के लिए आश्चर्यजनक कार्य कर सकती है। रस्सी कूदने के लाभ निम्नलिखित हैं :

1. हृदय वाहिका पुष्टि को बढ़ाती है (Improves Cardio Vascular Fitness)-
रस्सी कूदना एक अच्छा व्यायाम हैं जो आपके संस्थान के रक्त के स्थानांतरण व ऑक्सीजन को आपके हृदय तक तथा हृदय से आपके सारे शरीर को भेजने की योग्यता को बढ़ाता है। रोप स्किपिंग, सहनक्षमता को बढ़ाती है, हृदय, फेफड़ों व धमनियों को मजबूत बनाती है तथा हृदय रोगों, स्ट्रोक, कैंसर व मधुमेह को दूर रखती है। वास्तव में नियमित रूप से रस्सी कूदना रस्सी कूदने से हृदयवाहिका पुष्टि को बढ़ावा मिलता है।

( और पढ़ेसांस फूलने की परेशानी से राहत देगे यह 11 घरेलू इलाज)

2. समन्वय व स्थिरता में सुधार लाती है (Improves Coordination and Stability)-
यह एक तथ्य है कि बिना किसी ताल (Beat) के चूके लंबी अवधि तक बिना रुके अर्थात् लगातार रस्सी कूदना आसान नहीं हैं। आप दोनों पैरों से कूद सकते हैं तथा एक पैर से भी रस्सी कूद सकते हैं। वास्तव में इससे समन्वय बढ़ता है तथा टखने की स्थिरता भी बनती हैं।

3. मांसपेशी की दृढ़ता को बढ़ाती है (Improves Muscle Tone)-
रोप स्किपिंग शरीर के निचले भाग तथा टाँगों में मांसपेशियों की दृढ़ता को बढ़ाती है। प्रारंभ में आपको मांसपेशियों में पीड़ा (Soreness) का अनुभव हो सकता है, लेकिन बाद में नियमित अभ्यास के उपरांत आपको मांसपेशियाँ प्रारंभ की अपेक्षा शक्तिशाली, बड़ी तथा अधिक दृढ़ हो जाती हैं।

( और पढ़ेशरीर की कमजोरी दूर कर ताकत बढ़ाने के घरेलू उपाय)

4. शक्ति व गति को बढ़ाती है (Improves Strength and Speed)-
रोप स्किपिंग का नियमित व्यायाम शक्ति एवं गति को बढ़ा देता है। वास्तव में यह शीघ्रता, फुर्तीलेपन तथा प्रतिक्रिया समय को सुधारती है।

5. भार को कम करने में सहायता करती है (Helps in Losing Weight)-
रोप स्किपिंग भार को कम करने में सहायता करती है। यदि आप 30 मिनट तक रोप स्किपिंग करते हैं तो आप लगभग 300 कैलोरीज खर्च कर सकते हैं। इस प्रकार आप अतिरिक्त भार को कम कर ।सकते हैं।

( और पढ़ेमोटापा कम करने के सफल 58 घरेलु नुस्खे)

6. चोट के पुनर्वास में सहायता करती है (Helps in Rehabilitation of Injury)-
प्रायः रोप स्किपिंग का प्रयोग पुनर्वास के उद्देश्यों के लिए किया जाता है। बाद वाली अवस्था में रोप स्किपिंग पुनर्वास में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसलिए यह ज्यादा अच्छा है कि रोप स्कपिंग
की शुरुआत जमीन से केवल कुछ इंच ही कूदकर की जाए तथा पैरों पर अवतरण भी हल्के से किया जाए।

7. कम खर्चीली तथा पोर्टेबल (Inexpensive and Portable)-
स्किपिंग रोप कम खर्चीली होती है। इसके अतिरिक्त यह भारी तथा जटिल उपकरण नहीं है। इसे कहीं भी आसानीपूर्वक ले जाया जा सकता है। इससे कहीं पर भी व्यायाम किया जा सकता है, क्योंकि इसे करने के लिए थोड़ी-सी जगह की आवश्यकता होती है।

8. अस्थि के स्वास्थ्य के लिए अच्छी (Good for Bone Health)-
यह अस्थियों को शक्तिशाली बनाने में सहायता करती है। वास्तव में स्किपिंग रोप का नियमित अभ्यास ओस्टिओपोरोसिस (Osteoporosis) से बचाव करने में सहायता करता है।

( और पढ़ेहड्डियों को वज्र जैसा मजबूत बनायेंगे यह 18 देशी उपाय)

9. लसीका संबंधी प्रणाली में सुधार लाती है (Improves Lymphatic System)-
रोप स्किपिंग का नियमित अभ्यास रक्त से सभी प्रकार के व्यर्थ के पदार्थ व टॉक्सिन्स को हटा देता है तथा उनको बाहर निकाल देता है। इसीलिए यह त्वचा को सुंदर बना देती है। टॉक्सिन्स (Toxins) के निष्कासन के द्वारा यह मुंहासों (Aene ) को कम करने में सहायता करती है। इस प्रकार यह लसीका प्रणाली को स्वस्थ एवं पुष्ट बनाता है।

रस्सी कूदने के नुकसान : side effects of rope skipping

पर यदि आप हृदय-रोग या जोड़ों या हड्डियों की किसी तकलीफ से पीड़ित हैं, या आप गर्भवती महिला हैं, तो इस व्यायाम को अपने लिए वर्जित मानें।