Project Description

बस तू ही तू मेरे प्रभु ..बस तू ही तू | Bapu ji

तुम्हारे अंतर्यामी प्रभु सदैव तुम्हीं में हैं, तुम्हें देख रहे हैं। वे कभी भी तुम्हें अपनी आँख से ओझल नहीं
करते। तुम भी अपनी दृष्टि में किसी और को स्वीकार न करो। बस, और कुछ करना शेष नहीं है।