परिचय-

अंगूठे के आगे के भाग को अनामिका (छोटी उंगली के साथ वाली उंगली) उंगली की जड़ में टेढ़ा लगाने से अदिती मुद्रा बन जाती है।

लाभ-

इस मुद्रा को करने से हर समय उबासी आना ( जम्हाई ), ज्यादा छींक आना जैसे रोगों को दूर किया जा सकता है। अपने दोनों हाथों की अंजली बनाकर अदिती मुद्रा में भगवान को याद किया जा सकता है।

कितने समय तक करें

अदिती मुद्रा को दिन में 3-4 बार 15-15 मिनटों के लिए कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें – योगमुद्रा : एकाग्रता बढाने व मन को शांत करने वाली लाभकारी मुद्रा | Benefits of Yoga Mudra in Hindi

keywords – yoag mudra , अदिती मुद्रा ( Aditi mudra ), Chik ana , ubasi aana ,jamhai aana , jamhai lena , ubasi lena